Friday, October 21, 2011

A different kind of afternoon

Have this sudden urge to write. As if I must write it all before something in me ends, as if I'm working against a deadline. I often have these phases when I stop writing altogether. Last time that phase lasted a few years.

On a totally different note, आज राजघाट के सामने बने इग्नू के सेंटर पर जाने का मौका मिला. वैसे काम तो इग्नू में था, पर वहाँ से ज्यादा अच्छा 'गाँधी स्मृति एवं दर्शन समिति' कैम्पस में जा कर लगा (इग्नू की इमारत इस के अन्दर ही है). शहर की भाग-दौड़ के बीचोबीच ऐसी शांत जगह की उम्मीद नहीं थी, इसलिए शायद और pleasant surprise था. 

रीसर्च स्कालर्स के लिए बना गेस्ट हाउस देख कर लगा, मानो ये बिल्डिंग मेरे सपनो से निकाल के यहाँ ला कर रख दी गयी हो. चारों ओर से ऊंचे पेड़ों और हरी घास से घिरी, लाल ईंटों से बनी इस इमारत का आर्किटेक्चर काफी angular सा है. अपने मोबाइल फ़ोन के १.३ मेगा पिक्सल के कैमरे से चोरी से खींची हुई एक फोटो लगा देती हूँ, हालाँकि इससे उस जगह की खूबसूरती का बिलकुल अंदाज़ा नहीं लगता.

इससे थोडा आगे बढ़ने पर बायीं तरफ एक बड़ा सा lawn नज़र आता है. इसकी boundary walls काले रंग की wrought iron की छड़ों से बनी हुई है, जिस पर हिंदी के महान कवियों व लेखकों की तस्वीरों, कविताओं व गद्यांशों वाले करीब 3x6 फुट के कई बोर्ड लगे हुए हैं. मुंशी प्रेमचंद्र, अज्ञेय, गोपाल सिंह नेपाली आदि से कभी मुलाकात का मन हो, तो वहां जाइएगा.

आगे इग्नू की बिल्डिंग की ओर बढ़ने पर गाँधी जी के एक बड़े से स्टैचू पर नज़र पड़ती है. लेकिन इनकी दिल्ली या भारत में कोई कमी नहीं है, इसलिए ध्यान अभी भी पीछे छूटे कवियों पर ही अटका रहता है.

अक्टूबर के साथ शुरू हो चुके गुलाबी मौसम ने इस मौके को दोगुना ख़ास बना दिया. वैसे तो आज-कल अक्टूबर हो या जून, पक्षियों की आवाज़ सुने महीनों बीत जाते हैं.

वहां जा कर लगा, कभी बहुत से पैसे हों, तो खुद के लिए एक ३२-मंजिला घर बनवाने से अच्छा है खूब सारी ज़मीन ले कर, खूब सारे पेड़ लगा कर, उनके बीच एक छोटा सा दुमंजिला बनवाना. एक तरफ गुलमोहर, एक तरफ अमलतास, एक तरफ पलाश, कुछ बोटल-ब्रश. एक छोटा सा तालाब भी बन सके तो क्या ही बात हो!

3 comments:

indisch said...

Wish you wrote frequently.

Kanupriya said...

I do write pretty frequently, I think :)

indisch said...

Not as frequently as one would like. Been more than 10 days since the last post. :-)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...